(भारत एक साथ है)Bharat Ek Saath Hai Lyrics – Sonu Sood

Bharat Ek Saath Hai Lyrics | Sonu Sood | Coronawarriors | Lyrics4yu
“Bharat Ek Saath Hai Lyrics” performed and written  by Sonu Sood. The song is dedicated to all the coronavirus warriors, music is composed and labelled by T Series.

 

Bharat Ek Saath Hai Lyrics

Maana ki ghani raat hai
Iss raat se ladne ke liye
Poora Bharat ek saath hai

Teri koshish meri koshish rang layegi
Maut ke iss maidan mein
Zindagi jeet jayegi
Phir usi bheed ka hissa honge
Bas sirf kuchh hi dino ki baat hai

Maana ki ghani raat hai
Magar poora Bharat ek saath hai

In unchi unchi imaaraton ki
Chhoti chhoti khidkiyon mein sapne bade hain
Filhaal sambhal jaan bacha
Sadkon par tere mere rakhwale khade hain
Phir khushiyon ka mausam aayega
Pakka apna vishwas hai

Maana ki ghani raat hai
Iss raat se ladne ke liye
Poora Bharat ek saath hai
Maana ki ghani raat hai

Koyi maut se ladkar zindagi bacha raha hai
Koyi kachra uthakar bhi taali baja raha hai

Koyi khud ki parwah kiye bina
Apna farz nibhah raha hai
Insaaniyat hai sabse pehle
Na koyi dharam na jaat hai

Maana ghani kaali raat hai
Magar aaj poora Bharat ek saath hai

Jisne tera ghar sanwara
Aaj woh khud beghar hai
Chal pada hai sadak naapne
Chehre pe shikhan man mein dar hai

Aao khol dein apne ghar ke darwaze
Kahein kuchh din bas yehi tera ghar hai

Maana ki kaali ghani raat hai
Magar poora Bharat ek saath hai


भारत एक साथ है Lyrics

माना की घनी रात है
इस रात से लड़ने के लिए
पूरा भारत एक साथ है

तेरी कोशिश मेरी कोशिश रंग लाएगी
मौत के इस मैदान में
ज़िन्दगी जीत जाएगी
फिर उसी भीड़ का हिस्सा होंगे
बस सिर्फ कुछ ही दिनों की बात है

माना की घनी रात है
मगर पूरा भारत एक साथ है

इन ऊँची ऊँची इमारतों की
छोटी छोटी खिड़कियों में सपने बड़े हैं
फ़िलहाल संभल, जान बचा
सड़कों पर तेरे मेरे रखवाले खड़े हैं
फिर खुशियों का मौसम आएगा
पक्का अपना विश्वास है

माना की घनी रात है
इस रात से लड़ने के लिए
पूरा भारत एक साथ है
माना की घनी रात है

कोई मौत से लड़कर ज़िन्दगी बचा रहा है
कोई कचरा उठाकर भी ताली बजा रहा है

कोई खुड की परवाह किये बिना
अपना फ़र्ज़ निभा रहा है
इंसानियत है सबसे पहले
ना कोई धरम ना जात है

माना घनी काली रात है
मगर आज पूरा भारत एक साथ है

जिसने तेरा घर संवारा
आज वो खुद बेघर है
चल पड़ा है सड़क नापने
चेहरे पे शिखन मन में डर है

आओ खोल दें अपने घर के दरवाज़े
कहें कुछ दिन बस यही तेरा घर है

माना की काली घनी रात है
मगर पूरा भारत एक साथ है


Song Info

SongBharat Ek Saath Hai
SingerSonu Sood
MusicT Series

credit:


 

Jeetenge Hum Lyrics >>Dhvani Bhanushali

Teri Mitti Tribute Lyrics >>

Muskurayega India Lyrics >>

Mera Bharat Mahan Lyrics >>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Post